सावन बारिश शायरी हिंदी : नमस्ते दोस्तों आपका वेलकम है हमारे इस पोस्ट में उम्मीद करते है की आप अच्छे होंगे। सावन का महीना आते ही हर तरफ खुशनुमा माहौल हो जाता है वो मिट्टी की खुशबू वो ज़ोरो की बारिश वो बिजली का कड़कना वो मोर का नाचना सब एक जादू सा लगता है। 

अगर आप भी सावन के महीने का बेसब्री से इंतज़ार कर रहे है तो आप बिलकुल सही जगह पर आए है हमें यहा पर दर्द भरी सावन की बरसात शायरी लिखी है जिन्हे आप पढ़ सकते है और पसंद आए तो अपने यार दोस्तों परिवार में शेयर कर सकते हो। 


सावन की बरसात शायरी
सावन की बरसात शायरी

यहाँ पर बोहोत सारी best sad sawan ki dard bhari shayari in hindi के साथ images or photos भी दी है जिन्हे आप एक क्लिक में डाउनलोड कर सकते है और चाहे तो अपने सोशल मीडिया जैसे फेसबुक व्हाट्सप्प इंस्टाग्राम पर शेयर कर सकते है। आशा करते है की आपको ये पोस्ट जरूर पसंद आएगा और हमने इस वेबसाइट पर कई तरह की शायरी जैसे की रोमांटिक लव बेवफा गर्लफ्रेंड की शायरी इतियादी को प्रकाशित की है जिन्हे आप पढ़ सकते है धन्यवाद।


Best sawan ki shayari - हैप्पी सावन बारिश शायरी हिंदी


सावन की बरसात शायरी
सावन की बरसात शायरी

Badal ne mithi barish ki hai
Zami ne bhi kya guzarish ki hai
Lelo maza iss khubsurat nazaare ka
Khuda ne bhi kaisi shifaarish ki hai..!

बादल ने मीठी बारिश की है
जमी ने भी क्या गुजारिश की है
लेलो मज़ा इस खूबसूरत नज़ारे का
खुदा ने भी कैसी शिफारीश की है। 


Kis kis ki naav dubi hai
barish mee
Kis kis ne khela hai khel
barish mee
Kitna pyara tha wo bachpan
ka sawan
Abb bas yaado mee hi reh gaya
waisa sawan..!

किस किस की नाव डूबी है
बरिश में 
किस किस ने खेला है खेल
बरिश में
कितना प्यारा था वो बचपन
का सावन
अब बस यादों में ही रह गया
वैसा सावन। 

सावन की बरसात शायरी

Abb kaun ghataao ko 
rok paayega
Zulfe jo bikhri teri lagta hai
sawan aayega...!

अब कौन घटाओं को
रोक पाएगा
जुल्फे जो बिखरी तेरी लगता है
सावन आएगा। 


Mousam ka naya andaaz hai
Naya savera uske saath hai
Zara darwaza khol ke dekho
Bhiga sawan bhi uske saath hai..!
  
मौसम का नया अंदाज है
नया सवेरा उसके साथ है
जरा दरवाजा खोल के देखो
भीगा सावन भी उसके साथ है। 


सावन बारिश शायरी हिंदी
सावन बारिश शायरी हिंदी

Sawan har saal 
aata hai
Kabhi jyada kabhi kum
bhigata hai
Aao milkar jhoome iss
mousam mee
Phir ye lamha kaha loutkar
aata hai...!

सावन हर साल
आता है
कभी ज्यादा कभी कम
भीगाता है
आओ मिलकर झूमे इस
मौसम में
फिर ये लम्हा कहा लौटकर
आता है। 

best sawan ki shayari in hindi

Meri mohabbat tumse hai
sawan se nahi
Phir chahe wo hame kitna
bhi tadpale...!

मेरी मोहब्बत तुमसे है
सावन से नहीं
फिर चाहे वो हमें कितना
भी तड़पाले। 


Kaisa sawan hai ye
Khul ke barasta hi nahi
Dekhne mee teri zulfo
Ki ghata hi khub sahi..!
~ Zamil Malik

कैसा सावन है ये
खुल के बरसता ही नहीं
देखने में तेरी जुल्फो
की घटा ही खूब सही। 
~ जमील मलिक


Ajib khel hai kudrat ka
Badal ko rulaata hai sirf
Humko hasaane ke liye...!

अजीब खेल है कुदरत का
बादल को रूलाता है सिर्फ
हमको हसाने के लिए। 

सावन बारिश शायरी हिंदी

Sawan ki barsat mee 
 Ek baar phir bhige hai
Unko paane ki chahat mee..!

सावन की बरसात में
  एक बार फिर भीगे हैं
उनको पाने की चाहत में। 


best sawan ki shayari in hindi
best sawan ki shayari in hindi

Wo aapka mujhse 
yu lipat jaana
Har mahine sawan ka 
ehsaas dilaata hai...!

वो आपका मुझसे 
यु लिपट जाना
हर महीने सावन का 
एहसास दिलाता है। 

हैप्पी सावन शायरी

Barish ka ho gaya aagaaz
Badalo se nikli hai awaaz
Gharse baahar aa jaao sab
Aur dekho sawan ka mizaaz..!

बरिश का हो गया आगाज़
बादलो से निकली है आवाज
घर से बहार आ जाओ सब
और देखो सावन का मिज़ाज़। 


Kaash meri ek  
Khwaish puri ho jaye
Wo bachpan ka sawan
Wo Kaagaz ki kashti aur 
Wo barish ka paani mil jaye

काश मेरी एक
ख्वाइश पूरी हो जाए 
वो बचपन का सावन
वो कागज की कशती और
वो बारिश का पानी मिल जाए। 


Abb ke sawan toh
Barasta hua yu lagta hai
Aasma par bhi tere 
Gum ki ghata chaai ho ..!
~ Imran Shanavar

अब के सावन तो
बरसता हुआ यू लगता है
आसमा पर भी तेरे
गम की घटा छाई हो। 
~ इमरान शनावर

बारिश के मौसम पर शायरी

Kamaal ki barish hui hai
Lug raha hai mohabbat 
Phirse naakam hui hai..!

कमाल की बारिश हुई है
लग रहा है मोहब्बत
फिरसे नाकाम हुई है। 


हैप्पी सावन शायरी
हैप्पी सावन शायरी

Fiazaao mee rang iss tarah
mil jaaye
Ki murjhahi hui kaliya phir
khil jaaye
Iss sawan me mile hum dono
kuch aise
Ki hum ek dusre mee poora
ghul jaaye...!

फिजाओं में रंग इस तरह 
मिल जाए
कि मुरझाई हुई कलिया फिर 
खिल जाए
इस सावन में मिले हम दोनों 
कुछ ऐसे
कि हम एक दूसरे में पूरा 
घुल जाए। 

sawan ki dard bhari shayari

Kyo zakhm de rahi hai
Sawan ki pheli barish
Bohot yaad aa rahe hai
Humko bhulaane waale!

क्यो ज़ख्म दे रही है
सावन की पहली बरिश
बोहोत याद आ रहे हैं
हमको भुलाने वाले। 


Sawan ke mousam mee yaad
aapki aati hai
Barish ki bundo mee awaaz
aapki aati hai
Bijli kadakti hai toh bechaini
bhad jaati hai
Dil ki har dhadkan se awaaz
aapki aati hai...!

सावन के मौसम में याद
आपकी आती है
बारिश की बूँदों में आवाज़
आपकी आती है
बिजली कड़कती है तो बेचानी
बढ़ जाती है
दिल की हर धड़कन से आवाज़
आपकी आती है। 


Rok kar baithe hai kai
 Samandar aankho mee
Dagabaaz nikla sawan toh
 Hum Khud hi baras lenge..!

रोक कर बैठे हैं कई
  समंदर आंखें में
दगाबाज़ निकला सावन तो
  हम खुद ही बरस लेंगे। 

2 line sawan shayari

Unko kya kahabar 
Mere ashko ki
Sawan unn par jyada 
Meherbaan rehta hai..!

उनको क्या खबर
मेरे शको की 
सावन उन पर ज्यादा
महरबान रहता है। 


2 line sawan shayari
2 line sawan shayari

Abb kaun se mousam 
ki aas lagaye
Wo hame sawan mee 
yaad nahi karte..!

अब कौन से मौसम
की आस लगाए
वो हमे सावन में
याद नहीं करते..!

sawan sad shayari

Jitna hassa uss se
Jyada roya hu mai
Intezaar ne aankho
Ko sawan bana diya.!

जितना हंसा उससे
ज्यादा रोया हु मै
इंतजार ने आंखो को 
सावन बना दिया। 


Sawan aata hai aur 
chala bhi jaata hai
Magar ek sawan hamesha 
meri aankho mee rehta hai 

सावन आता है और
चला भी जाता है
मगर एक सावन हमेशा
मेरी आंखो में रहता है। 


Jis mousam mee 
Dil jalne lagta hai
Wo sawan ka
Mahina aa gaya 

जिस मौसम में 
दिल जलने लगता है 
वो सावन का
महीना आ गया। 

सावन की बरसात शायरी

Sawan ka aana hi 
kaafi nahi
Aapka mere paas aana bhi 
zaruri hai..!

सावन का आना ही
काफ़ी नहीं
आपका मेरे पास आना भी
ज़रुरी है। 


sawan ki dard bhari shayari
sawan ki dard bhari shayari

Ye barish unko bohot sataayegi
Jinke dil sawan mee tute hai...!

ये बारिश उनको बोहोत सताएगी
जिनके दिल सावन में टूटे हैं। 

best sawan ki shayari in hindi

Barsi hai ghataae aaj
Phir angdaaiya lekar
Sawan toh aaya hai
Magar tanhaaiya lekar..!

बरसी है घटाए आज 
फिर अंगड़ाइयां लेकर 
सावन तो आया है 
मगर तन्हाईया लेकर।  


Keh do sawan se 
Jum ke barasna
Kyoki mera pyaar 
Mere sath hai💕 

कह दो सावन से 
जम के बरसना
क्योकी मेरा प्यार 
मेरे साथ है। 


Kadam kadam par siski
Aur kadam kadam par aahe
Khiza ki baat naa pucho
Sawan ne bhi tadpaya mujhe..!
~ Unknown

क़दम क़दम पर सिसकी 
और क़दम क़दम पर आहें
खिजाँ की बात न पूछो 
सावन ने भी तड़पाया मुझे। 
~ अज्ञात 

सावन बारिश शायरी हिंदी

Sawan ka mahina 
Barish thi zoro ki
Apno ki mehfil mein
Shikayat thi auro ki..!

सावन का महिना
बरिश थी ज़ोरो कि
अपनों की महफिल में
शिकायत थी ओरो की। 


बारिश के मौसम पर शायरी
बारिश के मौसम पर शायरी

Barsat naa hui iss 
Sawan mee magar
Meri aankhe barshi 
Teri chahat mee..!

बरसात ना हुई इस
सावन में मगर
मेरी आंखे बरसी
तेरी चाहत में। 

हैप्पी सावन शायरी

Sawan aata hai aapki yaad
 dilata hai
Aapse dur hone ka ehsaas 
dilata hai 
Aankhe hai num aur zakm
bhi taaza hai
Ye mousam phir aapse pyar
karwata hai..!

सावन आता है आपकी याद
  दिलाता है
आपसे दूर होने का एहसास
दिलाता है
आंखे हैं नम और ज़ख्म
भी ताजा है
ये मौसम फिर आपसे प्यार
करवाता है। 


Palke bheeg rahi hai 
unki yaad mee
Badal bhi simat gaye 
apne aap mee
Barish ki bunde iss tarah
giri zami par
Jaise kudrat bhi roya ho
unki yaad mee

पलके भीग रही है
उनकी याद में
बादल भी सिमट गए
अपने आप में
बरिश की बुंदे इस तरह
गिरी जमी परी
जैसे कुदरत भी रोया हो
उनकी याद में। 


Koyal ki surili taano par
Tham tham ke papiha gaata hai
Hal ho ke hawa ki lehro mee
Sawan ka mahina aata hai..!
~Nushur Waahidi

कोयल की सुरीली तानों पर 
थम थम के पपीहा गाता है
हल हो के हवा की लहरों में
सावन का महीना आता है
~ नुशूर वाहिदी

बारिश के मौसम पर शायरी

Bhale hi hum sawan mee 
bhige naa ho
Magar dil ko maine aansuo
mee duboya hai..!

भले ही हम सावन में
भीगे ना हो
मगर दिल को मैंने आंसुओ
में डुबोया है। 


सावन की बरसात शायरी
सावन की बरसात शायरी

Chahe laakh baar sawan aaye
Magar mera sawan aapke
Karib aane sehi aata hai..!

चाहे लाख बार सावन आए
मगर मेरा सावन आपके
करीब आने से ही आता है। 

sawan ki dard bhari shayari

Dil ka mousam sawan
ho jaaye
Agar unko bhi mujhse pyar
ho jaaye..!

दिल का मौसम सावन
हो जाए
अगर उनको भी मुझसे प्यार
हो जाए। 


Bhulna toh chahate hai tumhe
Magar kya kare sawan aate hi 
Tum phirse yaad aane lagti ho..!

भुलना तो चाहते हैं तुम्हें
मगर क्या करे सावन आते ही
तुम फिरसे याद आने लगती हो। 


Yakinan luft hai koi toh
Sawan ke mahine mee
Khabar sawan ki sun kar
Log jhoola daal dete hai..!
~ Mohammad Istiyaak Alam

यक़ीनन लुत्फ़ है कोई तो 
सावन के महीने में
ख़बर सावन की सुन कर
लोग झूला डाल देते हैं। 
~ मोहम्मद इश्तियाक़ आलम

2 line sawan shayari

Sawan ne aaj mujhe 
bohot tarsaaya hai
Mera ghar choudkar saare
sheher ko bhigaay hai..!

सावन ने आज मुझे
बोहोत तरसाया है
मेरा घर छोड़कर सारे
शहर को भिगाया है। 


2 line sawan shayari
2 line sawan shayari

Mousam ne shaagish kaardi
Iss bar suhaana sawan aaya hai..!

मौसम ने शाजिश कर दी
इस बार सुहाना सावन आया है।

sawan sad shayari

Sawan ka andaaz lubhata hai
Achi khushbu se mehkaata hai
Barish ka aanand lene ke liye
Har koi ghar se bahaar aata hai..!

सावन का अंदाज़ लुभाता है
अच्छी खुशबू से महकाता है
बारिश का आनंद लेने के लिए
हर कोई घर से बहार आता है। 


Barish ki bunde tut tut kar
 Tujhpar bikhri hai
Kasam se hum bhi bhikar
Gaye tujhe dekhkar...! 

बरिश की बुंदे टूट टूट कर
तुझपर बिखरी है
कसम से हम भी बिखर
गए तुझे देखकर। 


Sawan mee tujhko yaad
jarur kiya jaayega
Ye gunaah ekbaar phirse
jarur kiya jaayega..!

सावन में तुझको याद
जरूर किया जाएगा
ये गुनाह एकबार फिरसे
जरूर किया जाएगा। 


sawan sad shayari
sawan sad shayari

Ghayal hai dil mera
tadapta bohot hai
Inn aankho ka sawan
barasta bohot hai...!

घायल है दिल मेरा
तड़पता बोहोत है
इन आंखों का सावन
बरसता बोहोत है। 

सावन की बरसात शायरी

Sawan ko aana 
Hai toh aaye
Hum bhi usse 
Kada mukabla denge..!

सावन को आना
है तो आए
हम भी उसे
कड़ा मुकाबला देंगे। 


Jhadi aesi laga di hai
Mere ashko ki barish ne
Daba rakha hai baando ko
Bhula rakha hai sawan ko
~Saail Dehelvi

झड़ी ऐसी लगा दी है 
मेरे अश्कों की बारिश ने
दबा रक्खा है भादों को 
भुला रक्खा है सावन को। 
~ साइल देहलवी


Sawab ki rut aa pahuci kaale
badal chaayenge
Kaliya rang mee bhigegi phulo
mee ras aayenge
Ha wo milne aayenge rehem bhi
kuch furmaayenge
Husn magar chutki lega phir kaatil
ban jayenge...!
~ Sagar Nizaami

सावन की रुत आ पहुँची काले 
बादल छाएँगे
कलियाँ रंग में भीगेंगी फूलों 
में रस आएँगे
हाँ वो मिलने आएँगे रहम भी 
कुछ फ़रमाएँगे
हुस्न मगर चुटकी लेगा फिर क़ातिल 
बन जाएँगे
~ साग़र निज़ामी

सावन बारिश शायरी हिंदी

Tum chat pe nahi aaye
Mai ghar se nahi nikla
Ye chand bahut bhatka
Sawan ki ghataao mee..!
~ Bashir Bhadra

तुम छत पे नही आए 
मैं घर से नही निकला
ये चाँद बहुत भटका 
सावन की घटाओ में। 
~ बशीर बद्र


Aapko dil mee rakha hi
Issliye hai taaki
Sawan mee aap par mohabbat
Ki barish kar sake..!

आपको दिल में रखा ही
इसलिए है ताकी
सावन में आप पर मोहब्बत
की बरिश कर सके। 

◼◼◼◼◼◼

For more shayari:

Previous Post Next Post